ई-पेपरग्राम पंचायतझारखंडपश्चिम बंगालबिहारराज्यो की खबरेंलाइव वीडियो

ईसीएल, राजमहल केसुशील ठाकुर को “हिंदी भारती सम्मान”

गोड्डा  ,(मनोज कुमार साह) : ईसीएल, राजमहल के वरीय प्रबंधक सह अंतरराष्ट्रीय शायर सुशील ठाकुर “साहिल” को हिंदी दिवस के अवसर पर “हिंदी भारती सम्मान “से अलंकृत किया गया है। यह सम्मान उन्हें विश्व हिंदी साहित्य परिषद दिल्ली द्वारा प्रदान किया गया जो उनकी रचनात्मक अभिव्यक्ति,भारतीय संस्कृति, हिंदी साहित्य एवं भाषा को राष्ट्रीय /अंतरराष्ट्रीय स्तर पर समृद्ध करने हेतु प्रदान किया गया।  विदित हो कि श्री ठाकुर को साहित्यिक अवदान के लिए पहले भी दर्जनों राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय सम्मान प्राप्त हो चुके हैं।  पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि वे इस सम्मान को गोड्डा- झारखंड  साहित्यकारों एवं हिंदी प्रेमियों की उपलब्धि मांगते हैं एवं उनके नाम समर्पित करते हैं। उन्होंने कहा कि यह सरजमीन साहित्यिक रूप से बहुत उर्वरा है। जहां कवि कैरव, श्यामसुंदर घोष, खगेंद्र ठाकुर एवम साहित्य अकादमी से पुरस्कृत साहित्य शिरोमणि ज्ञानेंद्रपति जैसे विद्वान से उन्हें प्रेरणा मिलती रहती हैं। उन्होंने इस अलंकरण के लिए विद्वान डॉ. आशीष कंधवे-दिल्ली, अध्यक्ष विश्व हिंदी साहित्य परिषद सह युवा संपादक गगनांचल : (भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद,विदेश मंत्रालय,भारत सरकार) तथा ममता गोयनका, महासचिव विश्व हिंदी साहित्य परिषद के प्रति विशेष आभार व्यक्त किया। श्री ठाकुर की इस उपलब्धि पर गोड्डा के साहित्यकारगण काफ़ी हर्षित एवं उल्लसित हैं।वरिष्ठ प्रबंधक सह अंतरराष्ट्रीय शायर सुशील ठाकुर “साहिल” को हिंदी दिवस के अवसर पर “हिंदी भारती सम्मान “से अलंकृत किया गया है। यह सम्मान उन्हें विश्व हिंदी साहित्य परिषद दिल्ली द्वारा प्रदान किया गया जो उनकी रचनात्मक अभिव्यक्ति,भारतीय संस्कृति, हिंदी साहित्य एवं भाषा को राष्ट्रीय /अंतरराष्ट्रीय स्तर पर समृद्ध करने हेतु प्रदान किया गया।  विदित हो कि श्री ठाकुर को साहित्यिक अवदान के लिए पहले भी दर्जनों राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय सम्मान प्राप्त हो चुके हैं।  पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि वे इस सम्मान को गोड्डा- झारखंड  साहित्यकारों एवं हिंदी प्रेमियों की उपलब्धि मांगते हैं एवं उनके नाम समर्पित करते हैं। उन्होंने कहा कि यह सरजमीन साहित्यिक रूप से बहुत उर्वरा है। जहां कवि कैरव, श्यामसुंदर घोष, खगेंद्र ठाकुर एवम साहित्य अकादमी से पुरस्कृत साहित्य शिरोमणि ज्ञानेंद्रपति जैसे विद्वान से उन्हें प्रेरणा मिलती रहती हैं। उन्होंने इस अलंकरण के लिए विद्वान डॉ.आशीष कंधवे-दिल्ली, अध्यक्ष विश्व हिंदी साहित्य परिषद सह युवा संपादक गगनांचल : (भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद,विदेश मंत्रालय,भारत सरकार) तथा ममता गोयनका, महासचिव विश्व हिंदी साहित्य परिषद के प्रति विशेष आभार व्यक्त किया। श्री ठाकुर की इस उपलब्धि पर गोड्डा के साहित्यकारगण काफ़ी हर्षित एवं उल्लसित हैं।

Related Articles

Close