Breaking Newsग्राम पंचायतझारखंडपश्चिम बंगालबिहार

भागलपुर का जर्दालू आम एवं मुजफ्फरपुर का शाही लीची की होगी फ्री होम डिलिवरी

पटना, (संवाददाता) :  कृषि मंत्री  अमरेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा कि शाही लीची और जर्दालू आम बिहार के गौरव एवं विशिष्ट उत्पाद है, जिनको भौगोलिक सूचकांक (जी आई) तैग प्राप्त है। उद्यान निदेशालय, कृषि विभाग द्वारा ‘‘बिहार राज्य उद्यानिक उत्पाद विकास योजना’’ के अंतर्गत 15 महत्वपूर्ण उद्यानिक फसलों को उत्पाद से लेकर बाजार तक की व्यवस्था किया जा रहा है। इस योजना के अंतर्गत अभी तक 22 जिलों में 23 किसान उत्पादक कम्पनियों का गठन करते हुए शीघे बाजार से जुड़ने का प्रयास किया जा रहा है। वर्तमान में कोरोना संक्रमण के कारण लॉकडाऊन की स्थिति में बागों से लोगों के घर तक शाही लीची एवं जर्दालू आम पहुंचाने का प्रयास विभाग द्वारा किया जा रहा है, जिससे बागवानी से जुड़े किसान के साथ-साथ उपभोक्ता भी लाभांवित होगे। बाजार से जुड़ने के समय इस बात का विशेष ध्यान दिया गया है कि किसानों को उनके उत्पाद का उचित मूल्य मिले और साथ ही, उपभोक्ताओं को ताजा एवं उच्च गुणवत्तायुक्त उत्पाद उनके घर पर ही उपलब्ध हो पायेगा। इस योजना के अंतर्गत किसान उत्पादक कम्पनियों को बाजार के साथ जुड़ने के साथ-साथ उद्यानिक फसलों के प्रसंस्करण इकाई स्थापित करने में भी सहयोग दिया जा रहा है।  उन्होंने कहा कि जर्दालू आम और शाही लीची से जुड़े किसान उत्पादक समूहों को उद्यान निदेशालय में गठित तकनीकी सहयोग समूह के समन्वय से बिग बास्केट, देहात और उड़ान जैसी संस्थाओं से जुड़ने का प्रयास किया गया है। बिग बास्केट एक व्यवसाय से उपभोक्ता (बी2सी) संस्थान है, जो किसान उत्पादक कम्पनियों से जर्दालू आम और शाही लीची को सीधे उपभोक्ताओं तक पहुँचाने का कार्य करती है। इसी तरह देहात और उड़ान व्यवसाय से व्यवसाय (बी2बी) संस्थान जो देश के कोने-कोने में खुदरा व्यवसायियों से सीघे जुड़ी है। इस तरह इन संस्थानों के माध्यम से बिहार के विशिष्ट उत्पाद देश के उपभोक्ताओं तक पहुँच सकेगा। कृषि विभाग द्वारा माननीय मुख्यमंत्री जी के परिकल्पना हर भारतीय के थाल में बिहार का एक उत्पाद हो को पुरा करेंगा। कृषि विभाग के इस प्रयास से आम एवं लीची से जुड़े 500 किसान लाभन्वित होगे।  उन्होंने कहा कि ये फल किसी रसायन के उपयोग के बिना अर्थात प्राकृतिक रूप से पका हुआ उपभोक्ताओं को उपलब्ध कराया जायेगा, जो बाजार की तुलना में ज्यादा गुणवत्तापूर्ण एवं स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होगा।  उन्होंने जर्दालू आम एवं शाही लीची के किसानों को इस कोरोना काल में बाजार की व्यवस्था उपलब्ध कराने के लिए सचिव कृषि डॉ॰ एन॰ सरवण कुमार एवं उद्यान निदेशक श्री नंद किशोर के प्रयासों की सराहना की। साथ ही, उन्होंने अन्य बागवानी फसलों के प्रसंस्करण एवं विपणन पर किसानों को हर सम्भव सहायता करने का निदेश दिया।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close