Breaking Newsझारखंडपश्चिम बंगालबिहार

सदन में ऑनलाइन जवाब को लेकर विधानसभा अध्यक्ष एवं मंत्री के बीच नोंक-झोंक

पटना, (जेपी चौधरी) : बिहार विधानसभा में ऑनलाइन जवाब को लेकर पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी ने स्पीकर पर विफरते हुए कहा कि अध्यक्ष महोदय सदन में ज्यादा व्याकूल होने की जरूरत नहीं है। इस पर स्पीकर विजय कुमार सिन्हा ने मंत्री से सदन में खेद प्रकट करने को कहा तो मंत्री ने तपाक से कहा कि अध्यक्ष के दिशा-निर्देश पर सदन चलेगा। लेकिन इस तरह के व्यवहार से नहीं चलेगा। सदन में स्पीकर विजय सिन्हा एवं पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी के बीच आसन से माफी मांगने को लेकर काफी नोंक-झोंक हुआ। इसके बाद स्पीकर विजय सिन्हा ने सदन की कार्यवाही 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया। इसके बाद उपमुख्यमंत्री रेणु देवी, संसदीय कार्य मंत्री विजय कुमार चौधरी एवं जनक सिंह ने स्पीकर के चेम्बर में पहुंचकर मनाने की कोशिश की। लेकिन इससे खफा विधानसभा अध्यक्ष ने एक भी बात नहीं मानी।

वहीं ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार समेत कई नेता मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कक्ष में पहुंचे तो वहां मुख्यमंत्री नहीं थे। उन नेताओं ने विधान परिषद में स्थित मुख्यमंत्री कक्ष में पहुंचे, लेकिन वहां पर भी मुख्यमंत्री जी मौजूद नहीं थे। स्पीकर का क्रोध इतना बढ़ गया था कि सत्ता एवं विपक्षी सदस्यों के बीच कौतुहल का‌ि विषय बन गया था। जब दोबारा 12 बजे सदन की कार्यवाही शुरू होने से पहले सदन में बैठे पूर्व मंत्री नरेन्द्र नारायण यादव के पास पहुंचकर स्पीकर चेम्बर में पहुंचने को कहा गया तो आनन-फानन में नरेन्द्र नारायण यादव पहुंचे व स्पीकर को काफी मनाने का मशक्कत किया गया। लेकिन इससे खफा स्पीकर कुछ सुनने को तैयार नहीं थे। इसके बाद सदन की कार्यवाही तय समय से पांच मिनट बाद शुरू हुआ। उसमें विधानसभा के पीठासीन स्पीकर नरेन्द्र नारायण यादव आसन पर बैठकर कार्यवाही शुरू की और सदन को दो बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया। हालांकि सदन में किसी प्रकार का शोर-शराबा नहीं हुआ। सत्ता एवं प्रतिपक्ष के बीच चर्चा का विषय बन गया। कुछ सत्तापक्ष के सदस्यों का कहना था कि ढाका के विधायक पवन जायसवाल के प्रश्न का उतर पंचायती राज मंत्री द्वारा दिया गया था लेकिन सत्ता पक्ष एवं विपक्ष द्वारा उतर से असंतुष्ट सदस्यों के मांग पर विधानसभा अध्यक्ष स्थगित कर दिया गया था। उससे आसन एवं मंत्री के बीच टकराव तेज हो गया था।

विधानसभा में अरूणा देवी के तारांकित प्रश्न के उतर में लघु जल संसाधन मंत्री डा. रामप्रीत पासवान ने कहा कि पईन मिट्टी से भर गयी है तथा इसके कुछ भाग में अतिक्रमण है। अतिक्रमण मुक्त कराने हेतु कार्यपालक अभियंता लघु सिंचाई प्रमंडल  नवादा द्वारा अंचलाधिकारी को लिखा गया है। अतिक्रमण मुक्त होते ही इस पइन का जीणोद्घार कार्य करा लिया जायेगा। भूदेव चौधरी के तारांकित प्रश्न के उतर में जल संसाधन मंत्री संजय झा ने कहा कि बांका जिला के धोरैया प्रखंड के श्रीपाथर वितरणी शाखा के लोग गांव में जगतपुर तक का नहर कच्ची है। राज्य सरकार ने चंदन जलाशय योजना के तहत 3550 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई उपलब्ध करायी जा रही है। राज्य में भू-जल संचय को देखते हुए नहरों को पक्कीकरण कराने का प्रावधान नहीं है।  शालिनी मिश्रा के तारांकित प्रश्न के उतर में पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी ने कहा कि राज्य के करीब 8000 से अधिक पंंचायतों में पंचायत सरकार भवन बनाने का प्रावधान है। अगले वित्तीय वर्ष में सभी पंचायतों में पंचायत सरकार भवन बना दिया जायेगा।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close